सरकार बनाने निकला ‘भाग्य विधाता

0
13

मतदान केन्द्रों पर कतारें, लोगों में लोकतंत्र के उत्सव का भागीदार बनने की होड़

श्रीगंगानगर। श्रीगंगानगर का नुमायंदा चुनने और राज्य की सरकार बनाने के लिए प्रत्याशियों का ‘भाग्य विधाताÓ आज सुबह घरों से निकल पड़ा। अब तक जितनी अधिक खामोशी मतदाता ने धारण कर रखी थी, आज उसने उतनी ही अधिक तेजी और सक्रियता मतदान करने के लिए दिखाई। लोगों में अधिकाधिक संख्या में लोकतंत्र के उत्सव का भागीदार बनने की होड़ लग गई। आज लोगों ने जहां मतदान किया, वही चुनाव में डटे प्रत्याशियों का भाग्य भी लिख रहे हैं।
शहर मेें मतदान के प्रति गजब का उत्साह नजर आ रहा है, आज सुबह आठ बजे मतदान शुरू होते ही मतदान केन्द्रों पर लोग वोट डालने के लिए पहुंचना शुरू हो गए। युवा मतदाता विशेष रूप से उत्साहित नजर आए। बड़े-बुजुर्ग भी इसी समय वोट डालने पहुंचने लगे। महिलाओं की तादाद सुबह कुछ कम रही तो दोपहर होते-होते मतदान केन्द्र महिलाओं से भरे नजर आए।
मतदाताओं के उत्साह ने लोकतंत्र के पर्व को खुशनुमा बना दिया। जैसे-जैसे दिन परवान चढ़ रहा है, लोग भाग्यविधाता की भूमिका में मतदान केन्द्रों पर उमड़ रहे हैं। जोश में लगातार इजाफा हो रहा है। हर्षोल्लास का माहौल है। हर कोई उत्साह में है। बाइस उम्मीदवारों के बीच से किसी एक को चुनना समुद्र मंथन सा काम है। इसी काम को भाग्य विधाता बेहद संजीदगी और खामोशी के साथ कर रहे हैं। राजनीतिक दलों एवं उनके प्रत्याशियों ने हर संभव प्रयास अपनी ओर से कर लिए हैं। आज वह भाग्य विधाताओं की ओर देखते नजर आ रहे हैं। शायद उनके चेहरे के भाव पढऩा चाह रहे हैं ताकि ग्यारह दिसम्बर के नतीजों का कुछ अनुमान तो लगा सकें।
श्रीगंगानगर जिले की छह विधानसभा सीटों के लिए मतदान की प्रक्रिया शांतिपूर्वक शुरू हुई। कड़ी सुरक्षा के बीच मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। श्रीगंगानगर विधानसभा क्षेत्र के 218 बूथों पर मतदाताओं ने वोट डालने शुरू किए। 167 ऐसे बूथ हैं, जो अतिसंवेदनशील घोषित हैं। इन पर पैरामिल्ट्री फोर्स लगाई हुई है।
किसी भी मतदाता या पार्टी के व्यक्तियों को बूथ से 200 मीटर की दूरी तक फटकने तक नहीं दिया गया। पहली बार इन चुनावों में पंजाब पुलिस को भी साथ लिया गया है। बूथ के अंदर भी पंजाब पुलिस ने सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर रखी थी। सुबह इन्दिरा कॉलोनी, दुर्गा मंदिर के पास स्थित स्कूल के बूथ में निर्दलीय उम्मीदवार राजकुमार गौड़ ने अपना वोट पोल किया। इसके अलावा कांग्रेसी नेता जगदीश जांदू, भाजपा प्रत्याशी विनीता आहुजा ने वोट डाला। यह बूथ भी अति संवेदनशील घोषित है।
सुबह नौ बजे तक जिले भर में मतदान धीमी गति से शुरू हुआ। श्रीगंगानगर विधानसभा क्षेत्र में 6.62 प्रतिशत, श्रीकरणपुर विधानसभा क्षेत्र में 7.11, रायसिंहनगर विधानसभा क्षेत्र 7.27, सूरतगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 7, अनूपगढ़ विधानसभा क्षेत्र में 7.38 प्रतिशत हुआ।
इसके बाद प्रात: 11 बजे तक श्रीगंगागनर में 21.97, सादुलशहर में 24.68, सूरतगढ़ 25.08, अनूपगढ़ 26.02, श्रीकरणपुर में 16 और रायसिंहनगर में 27 प्रतिशत मतदान हो चुका था।
दोपहर 1 बजे तक श्रीगंगानगर 38.11, सादुलशहर 42.20, श्रीकरणपुर 46.50, सूरतगढ़ 47.43, रायसिंहनगर 48, अनूपगढ़ 47.86 प्रतिशत मतदान हुआ।
प्रत्याशियों ने किया मतदान
श्रीगंगानगर विधानसभा क्षेत्र से उम्मीदवार भी अपने-अपने पोलिंग बूथ पर मतदान के लिए पहुंचते रहे। निर्दलीय उम्मीदवार जयदीप बिहाणी, जमींदारा पार्टी की कामिनी जिंदल, बसपा के प्रहलाद टाक, निर्दलीय प्रत्याशी राजकुमार गौड़ ने शुरुआती पहले घंटे में ही मतदान कर लिया। राधेश्याम गंगानगर ने भी दोपहर से पहले मतदान में भाग लिया। ये प्रत्याशी विधानसभा क्षेत्र के अन्य पोलिंग बूथों पर मतदान का जायजा लेने के लिए पहुंचते रहे। भाजपा की विनीता आहुजा ने तो दोपहर 12 बजे के बाद तथा कांग्रेस के अशोक चांडक ने दोपहर करीब 1.30 बजे मतदान किया।
ऐसा रहा माहौल
श्रीगंगानगर। मतदान के दौरान ग्रामीण और शहरी इलाकों में अलग-अलग माहौल दिखाई दिया। कुछ केन्द्रों पर लम्बी कतारें लगी रहीं तो कहीं पोलिंग बूथ खाली रहे।
ठ्ठ गंगानगर विधानसभा क्षेत्र के ब्लॉक एरिया में सत धर्मशाला पोलिंग बूथ पर दोपहर तक ईक्का-दुक्का मतदाता ही दिखाई दिए।
ठ्ठ इंदिरा चौक स्थित पोलिंग बूथ पर शुरुआती पहले घंटे में मतदाताओं की सर्वाधिक उपस्थिति रही।
ठ्ठ जवाहरनगर अरोड़वंश पब्लिक स्कूल में जमींदारा पार्टी प्रत्याशी कामिनी जिंदल पहली बार मतदान करने वाली युवतियों के साथ सैल्फी लेती दिखाई दी।
ठ्ठ नाथांवाली स्थित बाबा हरद्वारी नाथ पब्लिक स्कूल पोलिंग बूथ पर मतदान के लिए लम्बी कतार के चलते मतदाताओं को एक से डेढ़ घंटे तक का इंतजार भी करना पड़ा।
ठ्ठ मतदान केन्द्रों पर प्रत्याशियों की ओर से लगाए गए पोलिंग एजेंटों के लिए नाश्ते व भोजन में लजीज व्यंजन चर्चाओं में रहे।
ठ्ठ चहल चौक स्थित सरकारी स्कूल पोलिंग बूथ की ओर आने-जाने वाले ट्रैफिक को मतदान के दौरान बंद रखा गया।
ठ्ठ अतिसंवेदनशील मतदान केन्द्रों पर पुलिस व पैरामिल्ट्री फोर्स के जवानों ने स्तर्कता बरती। ऐसे केन्द्रों पर मतदान के दौरान ऊंची आवाज में बातचीत भी नहीं करने दी गई।
ठ्ठ जवाहरनगर, इंदिरा चौक व पुरानी आबादी के कुछ मतदान केन्द्रों पर बिना प्रवेश पत्रों के पहुंचे लोगों को बाहर ही रोक लिया गया।
ठ्ठ इंदिरा चौक हरिजन बस्ती सरकारी स्कूल में निर्वाचन आयोग की पर्ची लेकर मतदान के लिए पहुंचे लोगों को पर्चियों पर नम्बर गलत होने के कारण परेशानी उठानी पड़ी।
ठ्ठ मीरां मार्ग स्थित सरस्वती पब्लिक स्कूल मतदान केन्द्र में मतदान के बाद सैल्फी लेता नवदम्पत्ती अन्य मतदाताओं के लिए आकर्षण का केन्द्र बना रहा।
ठ्ठ पुरानी आबादी में एक मतदान केन्द्र पर पार्टी प्रत्याशी की ओर से नाश्ता नहीं भिजवाए जाने के कारण उसके बूथ एजेंट छोले-कुलचे खाते मिले।सभी प्रत्याशियों ने विकास को वोट मिलने का भरोसा जताते हुए अपनी जीत सुनिश्चित मानी है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here