श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिलों में कांग्रेस उतार सकती है ज्यादा महिलाएं

0
773

– राहुल गांधी के बयान से बढ़ी महिलाओं की आंखों में उम्मीदों की चमक
श्रीगगानगर राज्य विधानसभा चुनाव में महिलाओं की उम्मीदवारी को लेकर हाल में दिए बयान से श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिलों में उन महिलाओं की आंखों में उम्मीदों की चमक बढ़ गई, जो इस बार चुनाव में ताल ठोकना चाहती हैं। विभिन्न विधानसभा क्षेत्रों से महिलाएं टिकट की दावेदारी जता रही हैं। राहुल के ताजा बयान के बाद इन महिलाओं की उम्मीदें बढ़ गई हैं।
हाल में बांसवाड़ा जिले के सागवाड़ा में जनसभा में महिलाओं की भागीदारी को लेकर बयान दिया है। यहां राहुल ने कहा कि मैं चुनाव में अधिक महिला उम्मीदवारों को देखना चाहता हूं क्योंकि उनके बिना भारत में कुछ भी नहीं हो सकता। राहुल के बयान को विधानसभा चुनाव में ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को उम्मीदवार बनाए जाने की संभावनाओं के बारे मेंं देखा जा रहा है।
वर्तमान मेंं श्रीगंगानगर और हनुमानगढ़ जिलों में चार महिलाएं विधायक हैं। श्रीगंगानगर में जमींदारा पार्टी की कामिनी जिंदल, अनूपगढ़ में भाजपा की शिमला बावरी, रायसिंहनगर में जमींदारा पार्टी (अब कांग्रेस में शामिल हो चुकी) सोना देवी बावरी तथा पीलीबंगा में भाजपा की द्रोपदी मेघवाल विधायक हैं। हालांकि पिछले चुनाव में एक भी महिला कांग्रेस की टिकट पर नहीं जीती हैं मगर फिर भी इस बार दोनों जिलों में कांग्रेस की ओर से ज्यादा महिलाओं को उतारने की संभावना नजर आ रही है।
रायसिंहनगर में जमींदारा पार्टी को छोड़ कर कांग्रेस में शामिल हो चुकी सोना देवी बावरी स्वाभाविक रूप से कांग्रेस टिकट की दौड़ में हैं। संगरिया में गत विधानसभा चुनाव में पराजित हुई कांग्रेस प्रत्याशी शबनम गोदारा इस बार फिर टिकट के लिए प्रबल दावेदारी जता रही हैं। संगरिया से पूर्व विधायक डॉ. परम नवदीप भी फिर से कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में उम्मीदवारी के लिए बेताब हैं।
नोहर में पूर्व विधायक सुचित्रा आर्य इस बार फिर चुनाव मैदान में उतरना चाह रही हैं। वह कांग्रेस टिकट के लिए दावेदारी जता रही हैं। अगर भारतीय जनता पार्टी ने पीलीबंगा में द्रोपदी मेघवाल तथा अनूपगढ़ में शिमला बावरी को फिर से चुनाव मैदान मेंं उतारा तो कोई बड़ी बात नहीं कि कांग्रेस भी उनके मुकाबले में कोई महिला उम्मीदवार को मैदान में उतार दे।
श्रीगंगानगर में कांग्रेस प्रत्याशी के रूप में विधायक कामिनी जिंदल भी हो सकती हैं। हालांकि अभी तक कामिनी ने कोई संकेत नहीं दिया है कि वह जमींदारा पार्टी से प्रत्याशी होंगी, या अन्य किसी पार्टी से। मगर जानकार कामिनी के लिए सारे विकल्प खुले मान कर चल रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here